JA Teline V - шаблон joomla Форекс

'दावोस सम्मेलन' में पीएम मोदी का जाना क्यों है भारत के लिए बड़ी बात?

World
Typography

नई दिल्ली। भारतीय पीएम नरेंद्र मोदी दावोस (स्विट्जरलैंड) में विश्व आर्थिक मंच में हिस्सा लेंगे, वो इस सम्मेलन में उद्घाटन भाषण देंगे। पीएम मोदी 21 साल बाद दावोस जाने वाले भारत के पहले प्रधानमंत्री हैं, इससे पहले 1997 में तत्कालीन प्रधानमंत्री एच डी देवगौड़ा दावोस समिट में शरीक हुए थे। कार्यक्रम का अंत अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के भाषण के साथ होगा।

पीएम मोदी का दावोस जाना भारत के आर्थिक क्षेत्र के लिए महत्वपूर्ण कदम साबित हो सकता है। इसलिए पीएम मोदी ने खुद ट्वीट के जरिए इस एजेंडे के बारे में लोगों को बताया है। इंडियामीन्सबिजनेस हैशटैग के साथ किए गये ट्वीट में पीएम मोदी ने उम्मीद जताई है कि स्विट्जरलैंड के राष्ट्रपति एलेन बेरसेट तथा स्वीडन के प्रधानमंत्री स्टीफन लोफवेन के साथ होने वाली द्विपक्षीय मुलाकातें फलदायी होंगी, जिससे इन देशों के साथ भारतीय संबंध और आर्थिक सहयोग मजबूत होगा।

  • पीएम मोदी ने लिखा कि वो अंतरराष्ट्रीय समुदाय के साथ भारत के भविष्य संबंधों पर अपना नजरिया रखेंगे।
  • जिससे विश्व को क्लीयर हो पाए कि भारत आर्थिक मंच पर क्या कर सकता है।Image result for 'दावोस सम्मेलन' में पीएम मोदी का जाना क्यों है भारत के लिए बड़ी बात?

क्रिएटिंग अ शेयर्ड फ्यूचर इन अ फ्रैक्चर्ड वल्र्ड

उन्होंने सम्मेलन के मुख्य मंत्र क्रिएटिंग अ शेयर्ड फ्यूचर इन अ फ्रैक्चर्ड वल्र्ड (बंटी हुए संसार के साझे भविष्य का सृजन) को विचारपूर्ण और उचित बताते हुए कहा कि मुझे भारत के अच्छे दोस्त और मंच के संस्थापक प्रोफेसर क्लाउस श्वाब के निमंत्रण पर दावोस में विश्व आर्थिक मंच की बैठक में भाग लेने का इंतजार है।

मेक इन इंडिया

आपको बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पूरी कोशिश दुनिया के आर्थिक जगत के इस महाकुंभ में मेक इन इंडिया के तहत वैश्विक कंपनियों को देश में निवेश के लिए प्रोत्साहित करने की होगी। इस काम में उनके कैबिनेट के करीब आधे दर्जन मंत्री सहयोग करेंगे।Image result for 'दावोस सम्मेलन' में पीएम मोदी का जाना क्यों है भारत के लिए बड़ी बात?

ये है कार्यक्रम

  • आज दावोस (स्विट्जरलैंड) पहुंचते ही वह एयर बस, हिताची सहित 60 बड़ी कंपनियों के सीईओ के साथ राउंड टेबल डिनर करेंगे। इस दौरान 20 भारतीय कंपनियों के सीईओ भी मौजूद रहेंगे।
  • प्रधानमंत्री के साथ-साथ वित्तमंत्री अरुण जेटली, वाणिज्यमंत्री सुरेश प्रभु, रेलमंत्री पीयूष गोयल, पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान, कार्मिक मंत्री जितेंद्र सिंह भी दावोस में कुल 25 सत्रों को संबोधित करेंगे।

आखिर दावोस है क्या?

दावोस स्विटजरलैंड का एक बेहद खूबसूरत शहर है जो कि लैंड वासर नदी के तट पर स्थित है। यहां हर साल विश्व आर्थिक फोरम की बैठक होती है, खास बात ये है कि इस सम्मेलन में हिस्सा लेने वाले लोगों को दावोस कहा जाता है। इस आयोजन में केवल वही हिस्सा ले सकता है जिसे डब्ल्यूईएफ की तरफ से निमंत्रण मिला हो।Image result for 'दावोस सम्मेलन' में पीएम मोदी का जाना क्यों है भारत के लिए बड़ी बात?

पीएम मोदी समेत 130 लोग करेंगे सम्मेलन में शिरकत

ये बैठक पांच दिन तक चलेगी, जिसमें व्यापार, राजनीति, कला, शिक्षा और अन्य क्षेत्रों से कई नामी हस्तियां शिरकत करेंगी। भारत की ओर से पीएम मोदी समेत 130 लोग इसमें शामिल होंगे। इस साल का थीम क्रिएटिंग ए शेयरड फ्यूचर इन ए फ्रैक्चर्ड वल्र्ड है। इसमें बॉलीवुड अभिनेता शाहरुख खान, ऑस्ट्रेलियाई अभिनेत्री केट ब्लेन्चेट और संगीतकार एल्टन जॉन का सम्मान किया जाएगा।