JA Teline V - шаблон joomla Форекс

पाकिस्तान में फिर हिन्दू लड़की को जबरन मुसलिम बनाकर कराई शादी

World
Typography

नई दिल्ली। बंटवारे के दौरान पाकिस्तान में करीब पाकिस्तान में चार करोड़ हिन्दू थे। आज 70 बाद सबकी आबादी तीनगुनी होती पर पाकिस्तान में हिन्दू आवादी घटकर 50 लाख से भी कम हो गई है। आखिर, इसका कारण क्या है। इसकी कारण यह है कि वहां जबरन डरा-धमकाकर हिन्दुओं को मुसलिम बनाने का खेल लंब समय से चल रहा है।

पाकिस्तान में हिन्दुओं की लड़की होने का मतलब है उनका धर्म परिवर्तन। वहां, यह सवाल उठाया जा रहा है कि आखिरकार, पाकिस्तान में केवल हिन्दू लड़कियों का ही धर्म परिवर्तन क्यों हो रहा है। एक बार फिर से एक हिन्दू लड़की को जबरन मुस्लिम बनाया गया है। कलीम दीन ने ट्वीट किया है कि हिन्दू लड़की निशा को जबरन इस्लाम कबूल कराया गया और उसकी शादी मुस्लिम लड़के से करा दी गई है। मीडिया रिपोर्ट्स में दावा किया गया है कि निशा को अगवा कर मदरसे में ले जाया गया और जबरन उसका धर्मांतरण कर दिया गया। यह मामला सिंध के घोटकी जिले के भरचंडी इलाके का है। निशा अकील इलाके की मंदिर वाली गली में रहती है।पाकिस्तान में एक और हिंदू लड़की का जबरन इस्लामीकरण के साथ निकाह भी

निशा का धर्मांतरण करने के बाद उसका नाम सकीना कर दिया गया है। सकीना से जबरदस्ती कहलाया गया है कि उसने अपनी इच्छा से इस्लाम कबूल किया है और उसने एक मुस्लिम युवक से निकाह भी कर लिया है। निशा के पिता दीवान मल ने पुलिस में इसकी शिकायत की है। साथ ही इलाके के रसूखदार मुसलमानों से बेटी की साथ हुई ज्यादती की गुहार लगाई। मानवाधिकार कार्यकर्ता कपिलदेव सिंधी ने भी आरोप लगाया है कि निशा को जबरन मुस्लिम बनाया गया है।

पत्रकार मुस्तफा जटोई ने सकीना बनी निशा की फोटो के साथ ट्वीट करके कहा है कि कोई मुझे बताएगा कि हिन्दू समुदाय की केवल लड़कियां ही इस्लाम क्यों अपना रही हैं? कोई हिन्दू लड़का ऐसा क्यों नहीं करता? वहीं, पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी से जुड़े जफर शाह ने ट्वीट किया है कि क्या निशा को जबरन सकीना बनाना पाकिस्तान में हिन्दुओं का संहार नहीं है? उन्होंने अपने ट्वीट में पार्टी की जानी-मानी नेता शेरी रहमान को भी टैग किया है। इस घटना पर किसी सियासी दल या पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की है। निशा या उसके पिता की मदद के लिए कोई आगे नहीं आ रहा है।